भारत में मलेरिया के मामले में 73 प्रतिशत की गिरावट, WHO ने कहा- भारत ने मलेरिया से निपटने की दिशा में ‘बड़ी प्रगति’ दिखाई

न्यूज़ डेस्क। स्वास्थ्य के क्षेत्र में मोदी सरकार के प्रयासों के सकारात्मक नतीजे दिख रहे हैं। जहां स्वास्थ्य सुविधाओं में बढ़तोरी हुई है, वहीं बीमारियों को नियंत्रित करने में काफी सफलता मिली है। इस सफलता की तारीफ विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने भी की है। WHO ने कहा है कि भारत ने मलेरिया से निपटने की दिशा में ‘बड़ी प्रगति’ दिखाई है। सोमवार को जारी ‘विश्व मलेरिया रिपोर्ट 2020’ के अनुसार, भारत में मलेरिया के मामले में 73 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है।

डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक डॉक्‍टर टेड्रोस अदनोम ने रिपोर्ट में कहा, ‘दक्षिण-पूर्व एशिया के देशों ने काफी प्रगति दिखाई है, यहां मामलों और मौत के मामलों में क्रमश: 73 प्रतिशत और 74 प्रतिशत गिरावट आई है। भारत में मलेरिया के मामलों में सबसे अधिक गिरावट आई है, जहां मामले दो करोड़ से गिरकर 60 लाख हो गए हैं।’

अदनोम ने कहा कि क्षेत्र में मलेरिया के मामलों में 73 प्रतिशत गिरावट दर्ज की गई है, जहां 2000 में 2.3 करोड़ मामले थे, जो 2019 में अब 63 लाख हो गए। भारत में मलेरिया से होने वाली मौत के मामले में भी गिरावट आई है। रिपोर्ट के अनुसार मलेरिया से 2000 में 29,500 लोगों की मौत हुई, जबकि पिछले साल इससे 77,00 लोगों की मौत हुई थी।

‘विश्व मलेरिया रिपोर्ट 2020’ के अनुसार 2019 में दुनियाभर में मलेरिया के 22.9 करोड़ मामले सामने आए। एक वार्षिक अनुमान जो पिछले चार वर्षों में लगभग अपरिवर्तित रहा है। पिछले साल इस बीमारी से 4,09,000 लोगों की मौत हुई , जबकि 2018 में इससे 4,11,000 लोगों की मौत हुई थी।दक्षिण-पूर्व एशिया में मलेरिया के मामले 2000 में दो करोड़ थे, जो पिछले साल कम होकर 56 लाख हो गए।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

इसे भी देखें