जो 20 वर्ष में नहीं हुआ, वो लॉकडाउन ने कर दिखाया, उत्तर भारत में दिखा ये बड़ा बदलाव यंहा पढ़े….. जाने

    21

    न्यूज़ डेस्क। पूरा विश्व इस वक्त कोरोना महामारी की चपेट में है। कोरोना महामारी की वजह से विश्व के अधिकांश देश लॉकडाउन हैं। भारत भी 40 दिनों के लिए लॉकडाउन रहेगा। वर्तमान में औपचारिक घोषणा के अनुसार भारत में कम से कम 3 मई तक तो लॉकडाउन रहने वाला है। इस बीच भारत के लिए एक अच्छी खबर आई है। अमेरिकन स्पेस एजेंसी यानी NASA ने दावा किया है कि भारत में वायु प्रदूषण में जबरदस्त गिरावट दर्ज की गई है, खासकर के उत्तर भारत के इलाके में। नासा ने यह साफ कहा कि पिछले 20 वर्षों में ऐसी पहली गिरावट दर्ज की गई है। यानी कि 20 वर्षों के बाद भारत में हवा सबसे ज्यादा साफ हुई है। नासा के सैटेलाइट सेंसर ने ये माना कि उत्तर भारत में एयरोसोल लेवल पिछले 20 वर्षों में सबसे कम पाया गया है।

    वैज्ञानिकों ने भी माना कि हमें पता था कि लॉकडाउन के दौरान कई स्थानों पर वायुमंडल की संरचना में परिवर्तन दिखाई देगा लेकिन इतना बड़ा परिवर्तन एयरोसोल लेवल में दिखेगा इसकी कल्पना नहीं की थी। एयरोसोल हवा में तैरते हुए वह छोटे कन हैं जो विजिबिलिटी को कम करते हैं तथा फेफड़ों और दिल पर भी असर डालते हैं। भारत, खासकर के उत्तर भारत सर्दियों में हमेशा प्रदूषण के लिए चर्चा में रहता है। यहां की विजिबिलिटी बिल्कुल कम हो जाती है। लोगों को सांस लेने में तकलीफ होती है जलन होती है। कई बार इस प्रदूषण की वजह से हमें शर्मसार भी होना पड़ता है। लेकिन लॉक डाउन की वजह से वायु गुणवत्ता में हुई सुधार भारत के लिए एक अच्छी खबर है। देश की राजधानी दिल्ली विश्व के सबसे प्रदूषित शहरों में से एक है। ऐसे में यहां के वायु प्रदूषण में अगर सुधार दिखा है तो यह वाकई भारत के साथ-साथ देश के लिए भी एक अच्छी खबर है।

    NASA ने एक और सेटेलाइट तस्वीर जारी की है। इस तस्वीर में वैज्ञानिकों ने बताया है कि 2016 की तुलना में 2020 में पूरे भारत में धूल मिट्टी का असर बिल्कुल कम हो गया है। जहां 2016 में सेटेलाइट से देखने पर पूरा भारत सिर्फ मिट्टी और धूल से भरा नजर आता था वही लॉक डाउन की वजह से इसमें काफी सुधार हुआ है और जमीन बिल्कुल साफ नजर आ रही है। पर्यावरण वैज्ञानिकों ने भी माना है कि लॉकडाउन की वजह से कई मायनों में चीजें अच्छी हुई है। निर्माण कार्य का ठप्प होना, सड़कों पर वाहन का कम दिखना धूल मिट्टी में गिरावट का सबसे बड़ा कारण है। लेकिन इस वायु प्रदूषण में कमी का हर और फायदा दिख रहा है। भले ही देश की अर्थव्यवस्था को नुकसान हो रहा है लेकिन देश प्रदूषण मुक्त होने की दिशा में आगे बढ़ रहा है। नदिया साफ हो रही है, सांस लेने में तकलीफ कम हो रही है और साफ हवा मिल पा रही है। हरिद्वार की गंगा का पानी पीने लायक हो चुका है, अविरल हो चुका है। पिछले दिनों एक के फोटो काफी वायरल हुई थी। इस फोटो में जालंधर से हिमालय की पहाड़ियां दिखाई दे रही थी। कुल मिलाकर हम यह कह सकते हैं कि वायु प्रदूषण में सुधार की वजह से देश के लिए लॉकडाउन के बीच एक अच्छी खबर है।

    प्रातिक्रिया दे

    आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

    इसे भी देखें