राहुल के बयाना पर बीजेपी ने किया पलटवार, कहा कांग्रेस के रुख को देखकर तय करना मुश्किल हो रहा है कि वे देश के साथ है या चीन के

    21

    न्यूज़ डेस्क। LAC पर चीन के साथ सीमा विवाद और गलवान घाटी में झड़प के बाद जहां देश एक-दूसरे के साथ कंधे से कंधा मिलाकर मजबूती के साथ खड़ी है, वहीं कांग्रेस शुरू से ही लगातार सरकार पर हमला कर रही है। कांग्रसे के रुख को देखकर ये तय करना मुश्किल हो रहा है कि वे देश के साथ है या चीन के साथ खड़ी है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के बेटे राहुल गांधी ने सरकार से एक बार फिर पूछा है कि क्या चीन ने भारतीय जमीन पर कब्जा किया है। इसपर बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने करारा पलटवार किया है।

    मंगलवार को राहुल को जवाब देते हुए नड्डा ने कहा कि राहुल गांधी देश को बांटने की कोशिश कर रहे हैं। JP नड्डा ने ट्वीट कर कहा, ‘पहले कांग्रेस चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के साथ समझौते करती है। इसके बाद वह चीन को जमीन सरेंडर कर देती है। डोकलाम तनाव के दौरान राहुल गांधी चुपचाप चीनी दूतावास गए थे। इस चुनौतीपूर्ण वक्त में राहुल गांधी देश को बांटना चाहते हैं और जवानों का मनोबल गिराना चाहते हैं। समझौते का प्रभाव?’

    असल में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने आज ट्वीट कर कहा, ‘चीन आक्रमण के खिलाफ हम एकजुट खड़े हैं। क्या भारतीय जमीन पर चीन ने कब्जा किया है?’

    इसपर बीजेपी अध्यक्ष JP नड्डा ने कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए कहा कि पहले यह पार्टी चीन की कम्यूनिस्ट पार्टी से समझौते करती है और फिर देश की जमीन चीन को सौंप देती है। गौरतलब है कि 2008 में बीजिंग ओलंपिक के दौरान यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी और कांग्रेस नेता राहुल गांधी चीन गए थे। उस समय कांग्रेस पार्टी और कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना के बीच समझौता हुआ था। ये समझौता चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की मौजूदगी में हुआ था।

    इसपर बीजेपी अध्यक्ष JP नड्डा ने कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए कहा कि पहले यह पार्टी चीन की कम्यूनिस्ट पार्टी से समझौते करती है और फिर देश की जमीन चीन को सौंप देती है। गौरतलब है कि 2008 में बीजिंग ओलंपिक के दौरान यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी और कांग्रेस नेता राहुल गांधी चीन गए थे। उस समय कांग्रेस पार्टी और कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना के बीच समझौता हुआ था। ये समझौता चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की मौजूदगी में हुआ था।

    प्रातिक्रिया दे

    आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

    इसे भी देखें