पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी का गुंडाराज कायम है…! कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा- पश्चिम बंगाल में लोकतंत्र जैसी कोई चीज नहीं है।

न्यूज़ डेस्क। पश्चिम बंगाल में ममता राज में कानून व्यवस्था की हालत एकदम बिगड़ी हुई है। राज्य में TMC समर्थक आतंक मचाए हुए हैं। राज्य में बीजेपी कार्यकर्ताओं की हत्या आम हो गई है। कार्यकर्ताओं की हत्या के खिलाफ बीजेपी आज, 8 अक्तूबर को ममता सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रही है। कानून-व्यवस्था की स्थिति समेत सात सूत्री मांगों को लेकर बीजेपी कार्यकर्ता ‘नबन्ना चलो’ आंदोलन कर रहे हैं। राज्य में लगातार हो रही बीजेपी नेताओं की हत्या के खिलाफ इस प्रदर्शन में राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकुल रॉय भी शामिल हैं। इस दौरान पुलिस ने प्रदर्शनकारी कार्यकर्ताओं पर जमकर लाठियां बरसाईं। उनके ऊपर वॉटर कैनन और आंसू गैस के गोले छोड़े गए। पुलिसिया एक्शन में कई कार्यकर्ता घायल हो गए हैं।

बीजेपी नेता और कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधा है। रविशंकर प्रसाद पार्टी द्वारा बताया गया कि अब तक 115 भाजपा कायकर्ता बंगाल में राजनीतिक हिंसा का शिकार हुए हैं जिसमें पुलिस द्वारा कोई प्रमाणिक कार्रवाई नहीं हुई। आज के मार्च में लगभग एक लाख लोग थे। हमारे तकरीबन 1500 कार्यकर्ता इसमें घायल हुए हैं। भाजपा इस बर्बरतापूर्ण आचरण की भर्त्सना करती है। हम बहुत ही विनम्रता से ये कहना चाहते हैं ममता जी और TMC  को कि अगर आपको लगता है कि लाठी से और पुलिसिया दमन से आप भाजपा के विस्तार को बंगाल में रोक लेंगी तो आप इसमें सफल नहीं होंगी। उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में लोकतंत्र जैसी कोई चीज नहीं है। वहां की जनता भी बदलाव चाहती है। कानून मंत्री ने बंगाल में बीजेपी कार्यकर्ताओं पर पुलिस के द्वारा लाठीचार्ज करने का विरोध किया।

भाजपा प्रदर्शनकारियों ने आरोप लगाया कि उन्हें रोकने के लिए पुलिस ने रंगीन पानी वाले वॉटर कैनन का इस्तेमाल किया, जिसमें केमिकल मिला हुआ था। इससे कई प्रदर्शनकारियों को उल्टियां होने लगी। बीजेपी का आरोप है कि पुलिस के साथ टीएमसी के गुंडे भी बीजेपी कार्यकर्ता को निशाना बना रहे हैं। पश्चिम बंगाल में गुंडाराज को लेकर लोग सोशल मीडिया पर अपना गुस्सा जाहिर कर रहे हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

इसे भी देखें