मशहूर कथक डांसर पद्म विभूषण बिरजू महाराज का हार्ट अटैक से निधन, 83 साल की उम्र में ली अंतिम सांस

मुंबई। प्रसिद्ध कथक डांस बिरजू महाराज का रविवार देर रात दिल का दौरा पड़ने के कारण निधन हो गया। वह 83 वर्ष के थे। रिपोर्ट्स के अनुसार, रविवार की देर रात वह अपने दिल्ली स्थित आवास पर पोते के साथ खेल रहे थे, खेलते खेलते वह अचानक बेहोश हो गए। परिवार आनन फानन में बिरजू महाराज को दिल्ली के साकेत अस्पताल लेकर पहुंचा, जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। महान कथक नृतक बिरजू महाराज के निधन पर उनकी पोती रागिनी महाराज ने बताया कि पिछले एक महीने से उनका इलाज चल रहा था। बीती रात उन्होंन मेरे हाथों से खाना खाया, मैंने कॉफी भी पिलाई। उन्होंने बताया कि देर रात उन्हें सांस लेने में तक़लीफ हुई हम उन्हें अस्पताल ले गए लेकिन उन्हें बचाया ना जा सका।

पंडित बिरजू महाराज का असली नाम बृजमोहन मिश्रा था, उनका जन्म 4 फरवरी 1938 में लखनऊ में हुआ था। नृतक होने के साथ साथ शास्त्रीय संगीत में महारथ हासिल करने वाले बिरजू महाराज को पद्म विभूषण सम्मान से भी नवाजा जा चुका है, इसके अलावा उन्हें संगीत नाटक अकादमी पुरुस्कार और कालीदास सम्मान भी दिया जा चुका है।

पंडित बिरजू महाराज ने कई बॉलीवुड फिल्मों में डांस कोरियोग्राफ किया। बॉलीवुड की दिग्गज एक्ट्रेसेज को कथक की मुद्राएं भी सिखाईं। उनकी की गई फिल्मों में उमराव जान, डेढ़ इश्कियां, बाजीराव मस्तानी जैसी फिल्में शामिल हैं।

गायक मालिनी अवस्थी और अदनान सामी ने भी सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए उन्हें श्रद्धांजलि दी है। मालिनी अवस्थी ने लिखा- आज भारतीय संगीत की लय थम गई। सुर मौन हो गए। भाव शून्य हो गए। कथक के सरताज पंडित बिरजू महाराज जी नहीं रहे। लखनऊ की ड्योढ़ी आज सूनी हो गई। कालिकाबिंदादीन जी की गौरवशाली परंपरा की सुगंध विश्व भर में प्रसरित करने वाले महाराज जी अनंत में विलीन हो गए।

अदनान सामी ने ट्विटर पर लिखा कि प्रसिद्ध कथक नर्तक पंडित बिरजू महाराज जी के निधन की खबर से बहुत ज्यादा दुखी हूं। आज हमने कला के क्षेत्र का एक अनोखा संस्थान खो दिया, उन्होंने अपनी कला से कई पीढ़ियों को प्रभावित किया है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

इसे भी देखें