कोविड-19 : कोरोना से जूझ रहे अमेरिका और न्यूयॉर्क में मरे लोगों का कब्र में सामूहिक दफन, गवर्नर बोले- 9/11 के आतंकी हमले जैसी आपदा है कोरोना

न्यूयॉर्क। दुनिया के एक चौथाई से ज्यादा कोरोना पॉजिटिव मरीजों से जूझ रहे अमेरिका में अब तक 16700 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है जिसमें अकेले न्यूयॉर्क राज्य में कोविड 19 से मरे लोगों की संख्या 7000 से ज्यादा है। सिर्फ न्यूयॉर्क शहर में 5100 से ज्यादा मौत हुई है। ऐसे में न्यूयॉर्क में उन शवों को अब सामूहिक कब्र में दफनाया जा रहा है जिनकी डेड बॉडी को कोई क्लेम नहीं कर रहा है।

न्यूयॉर्क सिटी के हार्ट आइलैंड से ऐसे ही एक सामूहिक कब्र दफन की फोटो और वीडियो सामने आई है जिसमें गुरुवार को 40 लोगों का शव दफनाने का दावा किया गया है। सामूहिक कब्र दफन का वीडियो और फोटो ड्रोन से लिया गया है जिसमें सफेद पीपीई पहने वर्कर एक साथ कई ताबूत दफनाते देखे जा सकते हैं।

न्यूयॉर्क प्रांत में हार्ट आइलैंड पर पिछले 150 साल से ऐसे शवों को दफनाया जा रहा है जिनकी कोई वारिस ना हो या जिनका परिवार अंतिम संस्कार का खर्च ना उठा पाए। आम तौर पर यहां सप्ताह में लगभग 25 शव दफनाए जाते थे और सप्ताह में ये काम एक दिन किया जाता था। अभी हालात ये है कि सप्ताह में पांच दिन शव दफनाए जा रहे हैं और एक-एक दिन में 24-24 शव दफन हो रहे हैं। नीचे क्लिक करके सामूहिक शव दफनाने का ड्रोन से कैद वीडियो देख सकते हैं।

शव को सामूहिक कब्र में दफनाने का काम आम तौर पर इसी द्वीप पर बने एक जेल के कैदी करते हैं लेकिन अभी इतनने ज्यादा शव आ रहे हैं कि इस काम का ठेका कॉन्ट्रैक्टर्स को दे दिया गया है। न्यूयॉर्क में लगातार मौत से अस्पतालों के मुर्दाघर भरे हैं इसलिए प्रशासन शवों को ज्यादा दिन तक रोक नहीं रहा और उन्हें दफनाने के लिए भेज दे रहा है।

अमेरिका में कोरोना के 4 लाख 66 हजार से ज्यादा मरीज हैं जिसमें अकेले न्यूयॉर्क राज्य में करीब 1 लाख 60 हजार मरीज हैं। न्यूयॉर्क राज्य मरीजों की संख्या के मामले में दुनिया भर में दूसरे नंबर के देश स्पेन से भी आगे है. स्पेन में अब तक 1 लाख 57 हजार मरीज मिले हैं जबकि तीसरे नंबर पर चल रहे इटली में 1 लाख 43 हजार, फिर फ्रांस और जर्मनी में 1 लाख 18 हजार से ज्यादा मामले सामने आए हैं।

न्यूयॉर्क राज्य कोरोना से हुई मौत के मामले में इंग्लैंड के आस-पास है। बुधवार को राज्य में एक दिन में 799 लोगों की कोरोना से मौत हुई जो इस बीमारी से वहां एक दिन की सबसे ज्यादा मौत है। अकेले न्यूयॉर्क शहर जहां 5100 से ज्यादा लोग मरे हैं जहां मरीजों की संख्या 82 हजार के करीब पहुंच चुकी है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अमेरिका में कोरोना मरीजों के इलाज के लिए भारत से हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन मंगवाया है और निर्यात की मंजूरी के लिए भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ की है और भारत को शुक्रिया कहा है।

न्यूयॉर्क प्रांत के गवर्नर एंड्रयू कुओमो ने कोरोना से अपने प्रांत और न्यूयॉर्क शहर में मची तबाही की तुलना 11 सितंबर, 2001 को हुए अल कायदा के आतंकी हमले से की है जिसमें लगभग 3000 लोगों की जान चली गई थी। एंड्रयू कुओमो ने कहा है कि कोरोना से बढ़ रही मौत एक खामोश धमाके की तरह है जैसी आपदा हमने 9/11 को देखी थी। उन्होंने कहा कि हमने सोचा था कि न्यूयॉर्क की एक पीढ़ी के लिए 9/11 सबसे काला दिन होगा लेकिन कोरोना उससे ज्यादा दुखदायी है।

एंड्रयू कुओमो ने कहा है कि न्यूयॉर्क की अर्थव्यवस्था पर कोरोना का असर आतंकी हमले से ज्यादा बुरा होगा। उन्होंने कहा कि 1918 में स्पैनिश फ्लू बीमारी ने तीन चक्र में लोगों को शिकार बनाया था। कोरोना का ये पहला राउंड है और इसके थमने के बाद भी मुझे इसके फिर से उठने की आशंका बनी रहेगी। ये बीमारी पहले दिन से हमारी तैयारियों और अनुमान से आगे चल रही है। डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन को आशंका है कि कोरोना से अमेरिका में 60 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो सकती है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

इसे भी देखें