‘भीलवाड़ा मॉडल’ से कोरोना वायरस के प्रकोप पर काबू पाने में सफलता को, गांधी फैमली का बताने पर, कोरोना रोकने वाली सरपंच आई सामने, नाराज हो के कही ये बात

जयपुर। कोरोना वायरस के प्रकोप पर काबू पाने में राजस्थान का ‘भीलवाड़ा मॉडल’ सफल रहा है। ऐसे में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी कोरोना के खिलाफ जंग के लिए भीलवाड़ा मॉडल को प्रमोट करने में जुटे हुए हैं। लेकिन देवरिया गांव की महिला सरपंच किस्मत गुर्जर ने कांग्रेस पार्टी द्वारा स्थानीय लोगों की मेहनत का श्रेय लिए जाने पर गांधी परिवार को लताड़ लगाई है।

ट्वीटर पर वीडियो शेयर करते हुए महिला सरपंच ने कहा कि सोनिया गांधी द्वारा राहुल गांधी को भीलवाड़ा मॉडल का क्रेडिट दिया जाना बहुत ही दुखद है। भीलवाड़ा माडल जिसकी चर्चा हर ओर है उसमें किसानों, महिलाओं और भीलवाड़ा की स्वयंसेवी संस्थाओं की कड़ी मेहनत शामिल है। पिछले कई दिनों से राज्य सरकार जिसका क्रेडिट लेने की कोशिश कर रही है और राहुल गांधी ने भी लेने की कोशिश की है। दरअसल, वो स्थानीय लोगों की मेहनत का नतीजा है, जिन्होंने कोरोना से लड़ने के लिए छोटी-छोटी बातों का कड़ाई से पालन किया और आत्म संयम का परिचय दिया।

महिला सरपंच ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी से प्रभावित होकर भीलवाड़ा के लोगों ने न केवल लॉकडाउन का सही से पालन किया बल्कि सोशल डिस्टेंसिंग और साफ-सफाई का पूरा ध्यान रखा है। किस्मत गुर्जर ने कांग्रेस पार्टी को नसीहत देते हुए कहा कि ये समय राजनीतिक स्वार्थ सिद्धि का नहीं बल्कि संयम के साथ और मेहनत करने का वक्त है।

ज्ञात हो कि कांग्रेस ने कोरोना वायरस से लड़ने के लिए राजस्थान के भीलवाड़ा मॉडल पर रणनीति तैयार कर दी है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को भी भीलवाड़ा मॉडल पसंद आया वहीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर भीलवाड़ा मॉडल के तर्ज पर सूबे में कोरोना टेस्टिंग और ट्रीटमेंट की सुविधा बढ़ाने का अनुरोध किया था।

गौरतलब है कि देवरिया की सरपंच ने खुद अपनी ग्राम पंचायत में सैनिटाइजेशन किया था। वह अपनी पीठ पर मशील लगाकर हाथ से गांव में स्प्रे करती नजर आई थीं। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

इसे भी देखें