बांग्लादेश में मुश्किल हुआ हिंदुओं का जीना, मंदिरों के बाद अब 29 घरों पर कट्टरपंथियों ने लगाई आग

न्यूज़ डेस्क। कुरान के कथित अपमान वाले वायरल वीडियो मामले में कट्टरपंथियों ने हिंदुओं का जीना मुहाल कर दिया है। पहले मंदिरों में तोड़-फोड़ डके बाद अब कट्टरपंथियों ने 29 घरों में आग लगा दी है। bdnews24.com की रिपोर्ट के अनुसार रविवार देर रात रंगपुर जिले के पीरगंज स्थित एक गांव में कट्टरपंथियों ने आगजनी की। रिपोर्ट में जिले के पुलिस अधीक्षक मोहम्मद कमरुज्जमां के हवाले से कहा गया है कि गांव के एक युवा हिंदू व्यक्ति के एक फेसबुक पोस्ट में धर्म का अपमान करने की अफवाह पर तनाव बढ़ गया था। तनाव की सूचना पर पुलिस की टीम युवक के घर पर पेहरा देने लग गई। लेकिन हमलावरों ने गांव में आस-पास के कई घरों में आग लगा दी।

जिसके बाद सूचना पर पहुंचे अग्निशमन दल ने बमुश्कल आग बुझाई। अग्निशमन सेवा नियंत्रण कक्ष ने कहा कि घटनास्थल से उनकी रिपोर्ट से संकेत मिलता है कि पीरगोंज के माझीपारा में 29 आवासीय घरों, दो रसोई, दो खलिहान और 20 घास के ढेर को आग लगा दी। रिपोर्ट में कहा गया है कि दमकल सेवा को रात 8:45 बजे आग लगने की सूचना मिली और अंतत: सुबह करीब सवा चार बजे आग पर काबू पाया गया।

हालांकि पुलिस के अनुसार, आग लगने से किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है। पुलिस के मुताबिक, सांप्रदायिक हिंसा में कमिला, चांदपुर, चट्टोग्राम, कॉक्स बाजार, बंदरबन, मौलवीबाजार, गाजीपुर के हिंदू मंदिरों में पुलिस और हमलावरों के बीच झड़प हुई है। रिपोर्ट में कहा गया है कि सांप्रदायिक हिंसा में अब तक दर्जनों लोग भी गिरफ्तार हुए हैं।

बांग्लादेश हिंदू बौद्ध ईसाई एकता परिषद का आरोप है कि चांदपुर और नोआखली में हुए हमलों में कम से कम चार हिंदुओं की मौत हुई है। अर्धसैनिक बल के मीडिया विंग के सहायक निदेशक इमरान खान ने कहा, “कई लोगों को सांप्रदायिक हिंसा में शामिल होने और सोशल मीडिया पर लोगों को भड़काने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। उन्हें स्थानीय पुलिस स्टेशन को सौंप दिया गया है।”

इससे पहले शनिवार को हमलावरों ने कई मंदिरों और हिंदुओं की कई दुकानों में तोड़फोड़ की और जमकर लूटपाट की और वाहनों को आग लगा दी। करीब सात घंटे तक वे पुलिस से भिड़ते रहे। इसके बाद इलाके में अतिरिक्त पुलिस बल, अर्धसैनिक बल और बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश (बीजीबी) को तैनात किया गया है। इस हिंसा में करीब 40 लोग घायल हुए हैं। इस संबंध में रविवार को 400 अज्ञात लोगों के खिलाफ दो मामले दर्ज किए गए हैं।

सोमवार को ढाका विश्वविद्यालय के छात्रों के एक समूह ने बांग्लादेश में मंदिरों, पूजा स्थलों और हिंदू समुदाय के घरों पर हमलों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे धार्मिक समूहों के साथ हाथ मिलाया। प्रदर्शनकारियों ने अल्पसंख्यक समूहों से संबंधित मामलों को संभालने के लिए एक अलग मंत्रालय के गठन का आह्वान किया। एक अलग रिपोर्ट में bdnews24.com ने बांग्लादेश के प्रमुख अधिकार समूह ऐन ओ सलीश केंद्र (ASK) के हवाले से कहा कि जनवरी 2013 और इस साल सितंबर के बीच अल्पसंख्यक हिंदू समुदाय पर 3,679 हमले हुए।

इसमें कहा गया है कि हमलों में हिंदू समुदाय के 559 घरों और 442 दुकानों और व्यवसायों में तोड़फोड़ और आग लगाई गई। इसी अवधि में हिंदू मंदिरों, मूर्तियों और पूजा स्थलों पर तोड़फोड़ और आगजनी के कम से कम 1,678 मामले सामने आए। रिपोर्ट में कहा गया है कि इन घटनाओं में हिंदू समुदाय के 11 नागरिकों की मौत हुई है, जबकि 862 अन्य घायल हुए हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

इसे भी देखें