‘माँ काली और हनुमान की प्रतिमाओं को तोड़ा’, बंगाल में लेफ्ट भी हिंसा का शिकार, अब तक 11 मौतों की; रिपोर्ट

न्यूज़ डेस्क। पश्चिम बंगाल में रविवार (मई 2, 2021) को हुई मतगणना में TMC की जीत के साथ ही सत्ताधारी दल के गुंडों पर हिंसा के आरोप लग रहे हैं। भाजपा के दफ्तरों में आग लगाने, कार्यकर्ताओं की हत्या, उनके घरों को तहस-नहस करने की खबरें आ चुकी है। बीजेपी ने अपनी 2 महिला पोल एजेंट के साथ गैंगरेप का भी दावा किया है। ‘अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP)’ ने भी अपने दफ्तरों और कार्यकर्ताओं को निशाना बनाने के आरोप टीएमसी के गुंडों पर लगाए हैं।

आरोप है कि राजधानी कोलकाता में स्थित ABVP के दफ्तर में तृणमूल कार्यकर्ता घुस गए और उन्होंने वहाँ जम कर तोड़फोड़ मचाई। साथ ही वहाँ मौजूद कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट भी हुई। ABVP ने ये भी आरोप लगाया है कि TMC के गुंडों ने जान-बूझकर माँ काली और भगवान हनुमान की प्रतिमाओं के साथ तोड़फोड़ की। ABVP की महामंत्री निधि त्रिपाठी ने कहा कि जिन्होंने भी ममता बनर्जी के खिलाफ बोला, उनका खून बहाया जा रहा है।

उनका कहना है कि कोलकाता में ABVP के प्रान्त कार्यालय में 150 की संख्या में TMC के गुंडे नारेबाजी और हूटिंग करते हुए आए, जिन्होंने जम कर उपद्रव किया। इसके बाद सोमवार को दोपहर में 15-20 गुंडे भीतर घुस गए और कार्यालय में मौजूद पदाधिकारियों के साथ गाली-गलौज व हाथापाई की। दफ्तर में मौजूद श्यामा प्रसाद मुखर्जी, सुभाष चंद्र बोस और रवीन्द्रनाथ टैगोर की तस्वीरों को तोड़ डाला गया।

निधि त्रिपाठी के अनुसार, माँ काली और भगवान हनुमान की प्रतिमाओं को नीचे गिरा कर उन्हें पैरों तले रौंदा भी गया। उन्होंने कहा कि 100 के करीब गुंडे ABVP के कार्यालय को घेर कर खड़े थे। उन्होंने बताया कि TMC के गुंडे ये कहते हुए हमला कर रहे थे कि जिन्होंने ममता दीदी के चेहरे पर कालिख लगाई है और उनके खिलाफ बोला है, उन्हें हम बंगाल में नहीं रहने देंगे। उन्होंने कहा कि बदला लेने पर उतारू तृणमूल वाले खून बहा रहे हैं।

अब सिर्फ भाजपा ही नहीं बल्कि वामपंथी नेता भी आरोप लगा रहे हैं कि उनके दफ्तरों पर हमले किए जा रहे हैं, कार्यकर्ताओं के साथ हिंसा हो रही है और आगजनी की जा रही है। JNU छात्र संघ की अध्यक्ष आइशी घोष ने कहा कि TMC को जनादेश स्वीकार करना चाहिए और ये जनादेश लोगों के लिए काम करने के लिए मिला है, हिंसा के लिए नहीं। उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी के कार्यकर्ता विपक्षी दलों के कार्यकर्ताओं के घरों पर हमले कर रहे हैं, जिसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता।

CPI(M) के वरिष्ठ नेता सीताराम येचुरी ने भी कहा कि TMC जिस तरह हिंसा कर अपनी जीत का जश्न मना रही है, वो निंदनीय है। उन्होंने कहा कि ऐसी हिंसा का प्रतिकार किया जाएगा, ये स्वीकार्य नहीं है। येचुरी ने आरोप लगाया कि कोविड-19 महामारी से निपटने की बजाए ममता बनर्जी अराजकता फैलाने में लगी हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि CPI(M) लोगों की मदद, सुरक्षा और राहत देने के लिए हमेशा मौजूद रहेगा।

शुभेंदु अधिकारी के विधानसभा क्षेत्र नंदीग्राम के केन्डमारी गाँव में तृणमूल के कार्यकर्ताओं ने भाजपा की महिला कार्यकर्ताओं को जमीन पर पटक-पटक कर पीटा, जिसका वीडियो वायरल होने के बाद लोग राज्य में महिला सुरक्षा पर भी सवाल उठा रहे हैं। पश्चिम बंगाल में भाजपा के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने आरोप लगाया कि महिलाओं को पीटने वाले ‘TMC के मुस्लिम गुंडे’ हैं। अब तक करीब एक दर्जन लोगों की हत्या की बात कही जा रही है।

भाजपा कार्यकर्ता अभिजीत सरकार ने फेसबुक पर लाइव आकर तृणमूल की गुंडागर्दी के बारे में बताया था। इसके कुछ ही घंटों बाद उनकी हत्या कर दी गई। उनके पालतू कुत्तों के बच्चों को ही मार डाला गया। इस तरह की कई हत्याएँ हुई हैं। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा आज मृत कार्यकर्ताओं के परिजनों से मुलाकात करेंगे। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बंगाल से रिपोर्ट रिपोर्ट तलब की है। राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने DGP और कोलकाता के कमिश्नर को विशेष निर्देश दिए हैं।

ननूर से भाजपा की दो पोलिंग एजेंट्स के साथ गैंगरेप की खबर सामने आई है। ‘दैनिक जागरण’ की खबर के अनुसार, 9 भाजपा, 1 ISF और एक तृणमूल के कार्यकर्ता हिंसा की भेंट चढ़ गए हैं। नंदीग्राम में कई दुकानों में घुस कर लूटपाट व तोड़फोड़ हुई। कोलकाता के उल्टाडांगा में एक भाजपा कार्यकर्ता को पीट-पीट कर मार डाला गया। नॉर्थ 24 परगना के भाटपाड़ा में क्रूड बम बरामद हुआ। ममता बनर्जी ने हिंसा रोकने की अपील करते हुए कहा कि भाजपा और अर्धसैनिक बलों ने हमें काफी प्रताड़ित किया है।

पश्चिम बंगाल में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने आरोप लगाया है कि नतीजों के बाद उनकी पार्टी के करीब 100 दफ्तरों और कार्यकर्ताओं के घरों को तबाह कर दिया गया और कुछ को आग के हवाले कर दिया गया है। ममता बनर्जी ने ये कह कर पल्ला झाड़ लिया है कि जब तक वो शपथ नहीं ले लेतीं, कानून-व्यवस्था उनके हाथ में नहीं है। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा पुरानी और राज्य के बाहर की तस्वीरें शेयर कर के अनर्गल आरोप लगा रही है।

सोर्स : ऑपइंडिया

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

इसे भी देखें