भारतीय रेलवे का नए साल में रेलयात्रियों को तोहफा, अब सारी सुविधाएं हेल्पलाइन नंबर 139 पर ही

नई दिल्ली। भारतीय रेलवे ने वर्ष 2020 में यात्रियों को अलग-अलग हेल्पलाइन नंबरों से होने वाली परेशानियों को दूर करने के लिए रेलवे ने नए साल में बड़ा कदम उठाया है। अब सभी तरह की सुविधाएं, पूछताछ और शिकायत के लिए हेल्पलाइन नंबर 139 ही काम करेगा। इसके चलते अब यात्रियों को अलग-अलग नंबर याद रखने की जरूरत नहीं होगी। हालांकि, हेल्पलाइन नंबर 182 बरकरार रहेगा। PIB ने एक बयान जारी कर इसकी जानकारी दी है।

इससे पहले रेल मंत्री पीयूष गोयल ने बुधवार को ट्वीट कर बताया था, ‘रेलवे की विभिन्न हेल्पलाइन नंबरों को एकीकृत कर 139 में बदल दिया गया है, यह नंबर इंटरएक्टिव वॉइस रिस्पांस पर आधारित है। यह व्यवस्था 1 जनवरी से लागू की जा रही है, इसके शुरू होने पर यात्रियों को सहायता के लिए अलग-अलग नंबरों के स्थान पर सिर्फ एक हेल्पलाइन नंबर 139 को याद रखना होगा।’

पहले रेलवे में यात्री सुविधा और सेवा के कई नंबर थे, जिससे कई बार यात्री हेल्पलाइन नंबरों की सर्विस को लेकर कन्फ्यूज हो जाते थे। इसी को देखते हुए रेलवे ने यह पहल की है और अब सिर्फ 139 नंबर का इस्‍तेमाल करके रेलवे से जुड़ी हर समस्‍या का निपटारा कर सकते हैं।

पहले 138 हेल्पलाइन नंबर शिकायत के लिए, 1072 दुर्घटना एवं सुरक्षा की स्थिति के लिए, 58888/138 कोचों की सफाई के लिए, 1098 सामान खोने या लापता हुए बच्चों के लिए, 155210 विजिलेंस से शिकायत के लिए, 1800111321 नंबर कैटरिंग संबंधी शिकायत के लिए, 1800111139 रेलवे इन्क्वायरी के लिए और 1800111322 रेलवे पुलिस की मदद के लिए हेल्पलाइन नंबर था। इसके अलावा 139 यह नंबर पर PNR, कैंसिलेशन, किराए की जानकारी, सीटों की उपलब्धता और ट्रेन की ताजा स्थिति के बारे में जान सकते थे। अब ये सारी सुविधाएं 139 नंबर डायल करके मिल सकती हैं।

हेल्पलाइन नंबर 139 डायल करने के बाद सुरक्षा या चिकित्सा से जुड़ी सहायता के लिए 1, इन्क्वायरी के लिए 2 दबाने के बाद इसके सब-मेन्यू में अन्य सुविधाएं मसलन पीएनआर स्टेटस, ट्रेन के रवाना होने/ पहुंचने की जानकारी, टिकट उपलब्धता, कैंसलेशन, बुंकिंग, खाने की बुकिंग आदि की सुविधाएं होंगी।

कैटरिंग की शिकायत के लिए यात्रियों को 3, सामान्य शिकायत के लिए 4, विजिलेंस को शिकायत के लिए 5, आईवीआर मेन्यू में 6 का विकल्प दुर्घटना की स्थिति में जानकारी के लिए होगा। सभी शिकायतों की स्थिति जानने के लिए 9 और एग्जेक्युटिव से सीधे बात करने के लिए * का विकल्प चुनना होगा।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

इसे भी देखें