जम्मू-कश्मीर और लद्दाख भारत के अभिन्न हिस्से हैं, चीन को इस पर टिप्पणी करने से बचना चाहिए : रवीश कुमार

नई दिल्ली। एक बार फिर जम्मू-कश्मीर पर चीन के बयान का भारत ने करारा जवाब दिया है। भारतीय विदेश मंत्रालय ने जम्मू -कश्मीर और लद्दाख पर चीन के बयान की निंदा करते हुए कहा कि जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश(Union territory) का दर्जा देना भारत का अंदरूनी मामला है। इसलिए चीन को इससे दूर रहना चाहिए। मंत्रालय की तरफ से ये भी कहा गया है कि चीन का भी जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के कुछ हिस्सों पर कब्ज़ा है। 1963 में पाक और चीन के बीच करार हुआ था। POK में सीपैक कॉरिडोर पर भी हमने पाक और चीन से ऐतराज़ जताया था। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि जम्मू-कश्मीर और लद्दाख भारत के अभिन्न हिस्से हैं जिसके बारे में किसी दूसरे देश को टिप्पणी करने से बचना चाहिए।

गौरतलब है कि चीन ने जम्मू-कश्मीर के दो संघ शासित प्रदेशों में बंटवारे को “गैरकानूनी और निरर्थक” बताया और इस पर आपत्ति जताई थी। चीन ने कहा कि भारत की ओर से चीन के कुछ हिस्से को अपने प्रशासनिक अधिकार क्षेत्र में ‘शामिल’ करना बीजिंग की संप्रभुता को ‘चुनौती’ है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

इसे भी देखें