नितिन गडकरी ने बजट को बताया, अर्थव्यवस्था को 5 ट्रिलियन के सपने को आधार देने वाला, चौबे ने कहा…

नई दिल्ली। केंद्रीय भूतल परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने आम बजट को प्रधानमंत्री के 5 ट्रिलियन (5 खरब) के सपने को आधार देने वाला बताया। उन्होंने कहा कि यह बजट आधारभूत संरचना को मजबूत करेगा। इस बजट से अब देश में एक्सप्रेस हाईवे नेटवर्क शुरू हो जाएगा। मंत्री ने कहा कि विकास का एक नया युग यहां से शुरू होता है।

बजट 91 हजार करोड़ का है, जिससे साफ होता है कि 10.69 प्रतिशत की बढ़ोतरी की गई है। इस बजट में एमएसएमई लोन की रीस्ट्रक्चरिंग की अवधि बढ़ा दी गई है। बजट में जूते-चप्पल उद्योग और चमड़ा उद्योग के लिए बड़ा अवसर दिया गया है। बजट में कस्टम ड्यूटी बढ़ाई गई है। इससे निर्यात बढ़ेगा और जूता उद्योग को बढ़ावा मिलेगा। इससे आयात में कमी आएगी। गडकरी ने कहा कि बजट से आर्थिक विकास में तेजी आएगी।

रोजगार सृजन होगा। बजट में 100 लाख करोड़ के छह हजार प्रोजेक्ट को मंजूरी मिली है। इससे रोजगार का बड़े स्तर पर सृजन होगा। फर्नीचर पर कस्टम ड्यूटी बड़ाई गई है, इससे घरेलू उद्योग को बढ़ावा मिलेगा। लघु और मध्यम उद्योग के बजट में 7512 करोड़ बढ़ाया गया है।

उन्होंने कहा कि युवाशक्ति को बढ़ावा देने के लिए युवा पेशेवरों को मौका दिया जाएगा। नेशनल लॉजिस्टिक पॉलिसी बनाई जाएगी और इस मद में 91 हजार करोड़ रुपये की बढ़ोतरी की गई है। गडकरी बोले, कुल मिलाकर बजट रोजगारन्मुखी, निर्यात बढ़ाने वाला और विकास बढ़ाने वाला है। इस बजट से 100 लाख करोड़ रुपए का निवेश होगा, जिससे रोजगार बढ़ेगा।

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने शनिवार को संसद में आम बजट पेश होने के बाद कहा कि बजट में स्वास्थ्य सेवा मंत्रालय का खास ध्यान रखा गया है। चौबे ने बजट को देश को मजबूत बनाने वाला और विश्व में भारत को आर्थिक रूप से महाशक्ति बनाने वाले करार दिया है। चौबे ने कहा, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा पेश बजट भारत को विश्व में आर्थिक महाशक्ति के रूप में स्थापित करने में अहम भूमिका निभाएगा।

मौजूदा समय में भारत विश्व की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश है। इस बजट में हर वर्ग, हर क्षेत्र का ख्याल रखा गया है। यह बजट प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास ध्येय वाक्य पर आधारित है। इससे विकास को और अधिक गति मिलेगी। बजट में किसानों, महिलाओं, युवाओं, मध्यमवर्ग, उद्योग जगत, स्वास्थ्य एवं शिक्षा जगत सहित सभी क्षेत्रों का ध्यान रखा गया है।

आय पर लगने वाले कर में भारी कटौती की गई है। उन्होंने कहा, डिजिटल कनेक्टिविटी को बढ़ाने पर फोकस किया गया है। किसानों की आमदनी दोगुना करने पर ध्यान दिया गया है। मेडिकल डिवाइसेस पर लगने वाले टैक्स का इस्तेमाल स्वास्थ्य सेवाओं को बढ़ाने में किया जाएगा। 2025 तक टीबी खत्म करने का लक्ष्य है। इसके अलावा जन औषधि केंद्रों को 2024 तक हर जिले में शुरू किया जाएगा।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

इसे भी देखें