YogaDay के अवसर पर इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय कला केंद्र कर रहा है PM मोदी पर vBook की लॉन्चिंग, देशभर के कुलपति-बुद्धिजीवी करेंगे परिचर्चा

    22

    न्यूज़ डेस्क। 21 जून योग दिवस के अवसर पर इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र (IGNCA) 21 जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर vBook की लॉन्चिंग कर रहा है। दुनिया में अपनी तरह की इस पहली vBook के लेखक और निर्माता हैं वरिष्ठ पत्रकार डॉ. हरीश चन्द्र बर्णवाल, जिन्होंने ‘लॉर्ड ऑफ रिकॉर्ड्स’ के नाम से vBook की रचना की है। 21 जून को वर्चुअल माध्यम से आयोजित होने वाले इस कार्यक्रम में देशभर के 12 कुलपति भी शामिल होंगे। कार्यक्रम को दो सत्रों में रखा गया है।

    पहला सत्र शाम 4.00 बजे से 5.45 बजे तक है, जबकि दूसरा सत्र शाम 5.45 बजे से 7.30 बजे तक होगा।

    कार्यक्रम में आपका स्वागत है। इसके लिए आपको डिजिटल इंडिया की वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन करना होगा। रजिस्ट्रेशन लिंक है –
    https://digitalindia-gov.zoom.us/webinar/register/WN_SzxwTB8QTDe-afYlLpBmmg

    vBook ‘लॉर्ड ऑफ रिकॉर्ड्स’ के बारे में
    वरिष्ठ Tv पत्रकार और लेखक डॉ. हरीश चन्द्र बर्णवाल इस vBook के माध्यम से प्रधानमंत्री मोदी के पहले कार्यकाल में बने 243 रिकॉर्डों को एक-एक कर सामने ला रहे हैं। योग दिवस के अवसर पर लॉन्च की जा रही इस vBook में प्रधानमंत्री मोदी के योग से जुड़े तीन रिकॉर्ड भी शामिल किए गए हैं। प्रधानमंत्री मोदी की ये वो उपलब्धियां हैं, जिन्हें दस्तावेज के रूप में सहेजने का प्रयास किया गया है। अब इसे वीडियो के फॉर्मेट में लॉन्च किया जा रहा है। इस vBook के लिए सोशल मीडिया पर अलग से अकाउंट बनाया गया है। लोग इसे #LordofRecords के साथ शेयर कर रहे हैं। यह vBook अपनी तरह की दुनिया की पहली vBook है।

    YouTube – https://www.youtube.com/LordOfRecords2020
    Facebook – https://www.facebook.com/LordOfRecords2020/

    क्या है vBook –
    पहले पुस्तकों के कई नए प्रकार सामने आते रहे हैं, प्रिंट बुक एक ट्रैडिशनल तरीका है। इसके बाद eBook का समय आया। फिर ऑडियो बुक(Audio Book) का भी कॉन्सेप्ट सामने आया। लेकिन हाल के समय में vBook पर काफी चर्चा शुरू हुई है। vBook की खासियत यह है कि इसे लोग सुन सकते हैं और देख सकते हैं, साथ ही घटनाओं को महसूस भी कर सकते हैं। इससे पाठक के मन पर पुस्तक के कंटेंट का गहरा असर पड़ता है। गौरतलब है कि पुस्तक पर आधारित फिल्म और सीरियल तो काफी बने, लेकिन vBook पर अब तक काम नहीं हो पाया। हालांकि आज vBook को लेकर दुनिया की कई पब्लिशिंग कंपनियां काम कर रही हैं।

    प्रातिक्रिया दे

    आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

    इसे भी देखें