लता मंगेशकर के निधन से शोक में डूबा देश, दो दिन का राष्ट्रीय शोक घोषित, राष्ट्रपति कोविंद सहित लाखों लोग दे रहे हैं श्रद्धांजलि

मुंबई। महान गायिका लता मंगेशकर का 92 वर्ष की आयु में निधन हो गया। अनुभवी गायिका को इस साल जनवरी की शुरुआत में शहर के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जब उन्होंने कोविड -19 के लिए सकारात्मक परीक्षण किया था और उन्हें निमोनिया भी हो गया था। 28 जनवरी के आसपास, सुधार के मामूली लक्षण दिखाने के बाद, उसे वेंटिलेटर से हटा दिया गया था। हालांकि, 5 फरवरी को लता मंगेशकर की हालत बिगड़ गई और वे वेंटिलेटर सपोर्ट पर वापस आ गईं। लता मंगेशकर की याद में दो दिवसीय राष्ट्रीय शोक मनाया जाएगा। सम्मान के रूप में दो दिनों तक आधा झुका रहेगा राष्ट्रीय ध्वज।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महान गायिका लता मंगेशकर के निधन पर रविवार सुबह शोक व्यक्त करते हुए कहा कि वह अपने दुख को शब्दों में व्यक्त नहीं कर सकते। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘लता दीदी ने अपने गीतों के जरिए विभिन्न भावनाओं को व्यक्त किया। उन्होंने दशकों से भारतीय फिल्म जगत में आए बदलावों को नजदीक से देखा। फिल्मों से परे, वह भारत के विकास के लिए हमेशा उत्साही रहीं। वह हमेशा एक मजबूत और विकसित भारत देखना चाहती थीं।’’ मोदी ने कहा, ‘‘मैं अपना दुख शब्दों में व्यक्त नहीं कर सकता। दयालु और सबकी परवाह करने वाली लता दीदी हमें छोड़कर चली गईं। उनके निधन से देश में एक खालीपन पैदा गया है, जिसे भरा नहीं जा सकता। भावी पीढ़ियां उन्हें भारतीय संस्कृति की पुरोधा के रूप में याद रखेंगी, जिनकी सुरीली आवाज में लोगों को मोहित करने की अद्वितीय क्षमता थी।’’

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘यह मेरे लिए सम्मान की बात है कि मुझे लता दीदी से हमेशा बहुत स्नेह मिला। मैं उनके साथ की गई बातों को हमेशा याद रखूंगा। मैं और देशवासी लता दीदी के निधन पर शोक व्यक्त करते हैं। मैंने उनके परिवार से बात की और अपनी संवेदनाएं व्यक्त कीं। ओम शांति।’’ लता मंगेशकर का रविवार सुबह मुंबई स्थित एक अस्पताल में निधन हो गया। वह 92 वर्ष की थीं।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा लता जी का निधन मेरे लिए, दुनियाभर के लाखों लोगों के लिए हृदयविदारक है, लता दीदी जैसा कलाकार सदियों में एक बार पैदा होता है। वह एक असाधारण व्यक्ति थीं, जो उच्च कोटि के व्यवहार की धनी थीं। राष्ट्रपति कोविंद ने लता मंगेशकर के निधन पर कहा दिव्य आवाज हमेशा के लिए शांत हो गई है लेकिन उसकी गूंज अमर रहेगी, अनंतकाल तक गूंजती रहेगी।

अमित शाह ने भी लता मंगेशकर के निधन पर शोक क्यक्त किया। उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा मैं खुद को सौभाग्यशाली समझता हूँ कि समय-समय पर मुझे लता दीदी का स्नेह और आशीर्वाद प्राप्त होता रहा। अपने अतुलनीय देशप्रेम, मधुर वाणी और सौम्यता से वो सदैव हमारे बीच रहेंगी। उनके परिजनों व असंख्य प्रशंसकों के प्रति अपनी संवेदनाएं व्यक्त करता हूँ। ॐ शांति शांति

राहुल गांधी ने सोशल मीडिया पर लिखा लता मंगेशकर जी के निधन का दुखद समाचार प्राप्त किया। वह कई दशकों तक भारत की सबसे प्रिय आवाज बनी रहीं। उनकी सुनहरी आवाज अमर है और उनके प्रशंसकों के दिलों में गूंजती रहेगी। उनके परिवार, दोस्तों और प्रशंसकों के प्रति मेरी संवेदनाएं।

देवेंद्र फडणवीस लिखा – लता दीदी के हजारों गीतों ने कई लोगों को जीवन दिया और कई सपनों को पूरा किया। हम उनके देशभक्ति के गीत सुनते हुए बड़े हुए हैं। मैं स्वतंत्रवीर सावरकर जी के विचारों को फैलाने में उनके अपार योगदान की भी प्रशंसा करता हूं। देशभक्त मंगेशकर परिवार की मुखिया, लता दीदी कई लोगों के लिए आशा थीं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

इसे भी देखें