भारत के राष्ट्रीय ध्वज का अपमान, तजिंदर बग्गा ने दर्ज कराई शिकायत तो यूथ कांग्रेस ने डिलीट किया ट्वीट, नहीं माँगी माफी

न्यूज़ डेस्क। दिल्ली भाजपा के प्रवक्ता तजिंदर पाल सिंह बग्गा ने इंडियन यूथ कांग्रेस द्वारा भारत के तिरंगे झंडे का अपमान करने के सम्बन्ध में शिकायत दर्ज कराई थी। दिल्ली पुलिस के कमिश्नर को पत्र लिख कर शिकायत दर्ज कराए जाने के बाद यूथ कांग्रेस ने अपने उस ट्वीट को डिलीट कर लिया। अब तजिंदर बग्गा ने कांग्रेस से इस हरकत के लिए माफ़ी माँगने की माँग की है। उन्होंने उसे ‘भगोड़ी यूथ कांग्रेस’ करार दिया।

यूथ कांग्रेस ने तिरंगे झंडे में कोरोना वायरस का प्रतीकात्मक चित्र बना कर लिखा था- “और ऐसे एक के बाद एक कोरोना से लड़ाई हारता गया भारत“। इसे एक वीडियो के रूप में शेयर किया गया था, जिसमें तिरंगे झंडे पर इधर-उधर कोरोना वायरस को दिखाया गया था। बग्गा ने अपनी शिकायत में लिखा था कि इसमें तिरंगे झंडे को अपमानजनक तरीके से दिखाया गया है। उन्होंने आरोप लगाया था कि जानबूझ कर देश की छवि ख़राब करने के लिए ऐसा किया गया है।

तजिंदर पाल सिंह बग्गा ने लिखा था कि राष्ट्रीय ध्वज का इस तरह से अपमान करना दंडनीय अपराध है। उन्होंने IPC की सम्बद्ध धाराओं में यूथ कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई की माँग की थी। इसके बाद यूथ कांग्रेस ने किसी तरह अपना बचाव करने की कोशिश की। इस दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की एक फोटो शेयर की, जो योग दिवस का था। इसमें वो योग करने के दौरान अंगोछे से चेहरा साफ़ करते दिख रहे थे।

यूथ कांग्रेस ने दावा किया कि PM मोदी तिरंगे झंडे का अपमान कर रहे हैं। हालाँकि, जब तजिंदर बग्गा ने उन्हें याद दिलाया कि तिरंगा झंडा का अपमान तभी कहा जाएगा, जब उस पर अशोक चक्र बना हो, तब यूथ कांग्रेस की फिर से बेइज्जती हो गई। भद्द पिटने के बाद उन्होंने अपना ट्वीट डिलीट तो कर लिया लेकिन माफ़ी नहीं माँगी। इसके बाद ट्विटर पर यूथ कांग्रेस से लोग माफ़ी माँगने को कह रहे हैं।

तजिंदर बग्गा और यूथ कांग्रेस के बीच पहले से ही तनातनी चल रही है। तजिंदर बग्गा ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गाँधी को 5000 सिखों का हत्यारा बताया था, जिसके बाद कांग्रेस के लोग उन पर पिल पड़े थे। यूथ कांग्रेस द्वारा विरोध दर्ज कराए जाने के बाद रोज रात को बग्गा ने उन्हें टैग कर के राजीव गाँधी को ‘मास मर्डरर’ बताना शुरू कर दिया। वो राजीव गाँधी को ‘फादर ऑफ मॉब लिंचिंग’ भी बताते रहे हैं। इससे कॉन्ग्रेस के कई नेता उनसे ख़ासे नाराज़ हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

इसे भी देखें