दिल्ली प्रदूषण : सुप्रीम कोर्ट ने लगाई केजरीवाल सरकार को कड़ी फटकार, पूछा- जब बड़ों के लिए वर्क फ्राम होम, तो बच्चों के लिए क्यों खुला स्कूल?

न्यूज़ डेस्क। सुप्रीम कोर्ट ने वायु प्रदूषण के बीच स्कूल खोले जाने पर दिल्ली सरकार को कड़ी फटकार लगाई है। गुरुवार को प्रदूषण पर सुनवाई करते हुए दिल्ली में हवा का गुणवत्ता बेहद खराब होने के बाद भी स्मॉग के बीच बच्चों के स्कूल जाने पर केजरीवाल सरकार से पूछा कि प्रदूषण के बीच स्कूल क्यों खोले गए? सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार से पूछा, जब सरकार ने वयस्कों के लिए वर्क फ्रॉम होम लागू किया, तो बच्चों को स्कूल जाने पर क्यों मजबूर किया जा रहा है? मुख्य न्यायाधीश एनवी रमन्ना ने कहा कि आपने हमें कहा था कि स्कूल बंद हैं। लेकिन छोटे बच्चे स्कूल जा रहे हैं। बड़े वर्क फ्रॉम होम करें और बच्चे स्कूल जाएं? आप कोर्ट में कुछ कहते हैं और सच कुछ और होता है। ऐसे में तो हमें दिल्ली सरकार पर निगरानी के लिए किसी को नियुक्त करना पड़ेगा।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि आप रोज हलफनामा पेश कर रहे हैं, रिपोर्ट, कमेटी रिपोर्ट सब दे रहे हैं। लेकिन ग्राउंड पर क्या हो रहा है। जस्टिस सूर्यकांत ने भी कहा कि किसी भी चीज का पालन नहीं हो रहा है। दिल्ली में सीएम अरविंद केजरीवाल के फोटो के साथ बैनर लेकर कुछ युवाओं के सड़क किनारे खड़े होकर रेड लाइट पर इंजन ऑफ-ऑन कराने पर सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा कि आप ये बताइए कि क्यों युवाओं को सड़कों के बीच में बैनर के साथ खड़ा किया गया। वे यहां आपके प्रचार के लिए थे। किसी को उनके स्वास्थ्य के बारे में सोचना चाहिए।

सुप्रीम कोर्ट से मिली इस फटकार के बाद सोशल मीडिया पर लोग इसी पर चर्चा कर रहे हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

इसे भी देखें