हम भारत और नरेंद्र मोदी के साथ खड़े हैं, इस महामारी के लिये टीका विकास पर भी सहयोग कर रहे हैं। मिलकर हरायेंगे अदृश्य शत्रु को ! : राष्ट्रपति ट्रंप

वाशिंगटन। देश में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। भारत में कोरोनाय संक्रमितों का आंकड़ा 85 हजार के करीब पहुंच गया है। इस तरह भारत संक्रमितों के मामले में चीन से आगे निकल गया है। दुनिया भर में जारी कोरोना संकट के बीच रिश्ते भी बन और बिगड़ रहे हैं। एक तरफ जहां अमेरिका की तरफ से चीन पर लगातार इस बीमारी को लेकर आरोप लगाए जा रहे हैं वहीं दूसरी तरफ अमेरिका ने भारत की तरफ मदद के लिए हाथ बढ़ाया है। अमेरिका के राष्ट्रपति ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है।

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट कर कहा है, “मुझे यह घोषणा करते हुए गर्व हो रहा है कि संयुक्त राज्य अमेरिका भारत में अपने दोस्तों को वेंटिलेटर देंगे। हम भारत के साथ और नरेंद्र मोदी के साथ खड़े हैं। इस महामारी को लेकर हम टीका विकास पर भी सहयोग कर रहे हैं। हम मिलकर अदृश्य शत्रु को हरा देंगे।”

इससे पहले भारतीय-अमेरिकी को महान वैज्ञानिक और अनुसंधानकर्ता बताते हुए अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शुक्रवार को कहा कि भारत और अमेरिका साथ मिल कर कोविड-19 का टीका विकसित करने में जुटे हुए हैं। ट्रंप ने संवाददाताओं से कहा कि इस साल के अंत तक कोविड-19 का टीका विकसित होने की संभावना है।

उन्होंने कहा, ‘‘मैं कुछ ही समय पहले भारत से लौटा हूं और हम भारत के साथ मिल कर काम कर रहे हैं। अमेरिका में भारतीय बहुत बड़ी संख्या में हैं और आप जिन लोगों के बारे में बात कर रहे हैं उनमे से कई लोग टीका विकसित करने में जुटे हुए हैं। बेहतरीन वैज्ञानिक और अनुसंधानकर्ता।” ट्रंप ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपना बहुत अच्छा मित्र बताया।

इस बीच, समाचार एजेंसी AP की खबर के अनुसार, अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शुक्रवार को उम्मीद जतायी कि इस साल के अंत तक या उससे कुछ समय बाद कोरोना वायरस का टीका बाजार में उपलब्ध हो सकता है। ट्रंप की ओर से वायरस के मामलों के लिए प्रशासन में नियुक्त किए गए एक पूर्व दवा कार्यकारी मोनसेप स्लोई ने कहा कि हमारा प्रयास वर्ष 2020 के अंत तक टीका तैयार करने का है। रोज गार्डन के एक कार्यक्रम में ट्रंप ने कहा कि वह राज्यों को आर्थिक गतिविधियों को दोबारा शुरू करने के साथ ही इसे आगे बढ़ते हुए देखना चाहते हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

इसे भी देखें