11 सप्ताह के लॉकडाउन से आजादी मिलते ही पटरी पर लौट रही जिंदगी, वुहान शहर छोड़कर जा रहे हजारों लोग

नई दिल्ली। चीन के वुहान शहर से फैली महामारी का कहर अब विश्व के लगभग हर एक देश में देखने को मिल रहा है। जबकि चीन के हालात अब संभल गए हैं। वुहान शहर से ही कोरोना वायरस की शुरुआत हुई जिसके बाद शहर को पूरी तरह से बंद कर दिया गया था लेकिन हालात सुधरने के बाद अब वुहान के लोगों को बाहर यात्रा करने की अनुमति दी जा चुकी है।

चीन के अधिकारियों ने चरणबद्ध तरीके से वुहान शहर में जारी लॉकडाउन को खत्म किया। सर्वप्रथम लॉकडाउन में ढील दी गई और फिर बीते शुक्रवार को अधिकारियों ने लोगों को घरों में ही रहने की और जरूरत के बगैर बाहर नहीं जाने की हिदायत दी। ताकि एक बार फिर से कोरोना वायरस फैलने की कोई गुंजाइश नहीं बचे।

चीन के वुहान शहर से फैले संक्रमण को रोकने के लिए दुनिया के कई देशों ने लॉकडाउन का मॉडल अपनाया। क्योंकि कोरोना वायरस संक्रमण को फैलने से रोकने का सिर्फ एकलौता यही माध्यम है। आसान शब्दों में कहें तो इस वायरस से बचने के लिए सामाजिक दूरी बनानी पड़ेगी। जिसको ध्यान में रखते हुए ही अलग-अलग देशों की सरकारों ने लॉकडाउन का फैसला लिया। हालांकि वुहान शहर को ग्यारह सप्ताह के बाद लॉकडाउन से आजादी मिल गई।

लॉकडाउन खत्म होने के बाद अब वुहान के लोग सड़कों पर वापस निकल सकते हैं। जिसके साथ ही वुहान के 1.1 करोड़ लोग कहीं भी आ-जा सकते हैं इसके लिए उन्हें किसी प्रकार की कोई भी अनुमति की आवश्यकता नहीं है। हालांकि प्रशासन की शर्त के मुताबिक अनिवार्य स्मार्ट फोन एप्लिकेशन में यह पता चलता हो कि वे स्वस्थ हैं और किसी भी कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में नहीं आए हैं।

11 सप्ताह के बंद के बाद वुहान शहर में जिंदगियां पटरी पर लौट रही हैं। स्वास्थ्य कर्मियों की बहादुरी के कसीदे पढ़े जा रहे हैं। साथ ही साथ शहर के नागरिक झंडे लहराते हुए देखे गए और कुछ लोगों ने तो ‘वुहान आगे बढ़ो’ के नारे भी लगाए।

सड़कों पर गाड़ियां उतर आईं, सैकड़ों लोग शहर से बाहर जाने के लिए ट्रेनों और विमानों का इंतजार करते दिखे। जबकि कई लोग नौकरी पर जाने को बेताब नजर आए। चीन में कोरोना वायरस के 82,000 मामलों में से अधिकतर मामले वुहान शहर के ही थे।
हालांकि, चीन के स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि मंगलवार को संक्रमण से दो लोगों की मौत हो गई जिनमें से एक व्यक्ति की शंघाई में और एक अन्य की हुबेई प्रांत में मौत हुई, इसके साथ ही देश में संक्रमण के कारण मरने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 3,333 हो गई है।

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी द्वारा मिली जानकारी के मुताबिक चीन में कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्तियों की मंगलवार तक 81,802 थी। जिसमें से 1,190 मरीजों का अभी इलाज चल रहा है। जबकि 77,279 मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। हालांकि 3,333 लोगों की कोविड-19 के चलते मौत हो गई।

भले ही वुहान शहर से लॉकडाउन पूरी तरह से समाप्त हो गया हो लेकिन सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के अखबार ने इतनी जल्दी जश्न मनाने के खिलाफ चेतावनी दी है।

ग्यारह हफ्ते जारी रहे लॉकडाउन की वजह से कई सारी जिन्दगियां चीन के वुहान शहर में फंस गईं थीं। हालांकि, लॉकडाउन हटते ही लाखों लोग शहर छोड़कर जाने लगे। वुहान शहर को छोड़ने के लिए लोगों ने बस, ट्रेन और फ्लाइट का सहारा ले रहे हैं। मिली जानकारी के मुताबिक वुहान शहर छोड़ रहे लोग चीन के अलग-अलग हिस्सों के रहने वाले हैं जो शहर में नौकरी करते थे। लेकिन 2 महीने तक कोरोना वायरस के चलते फंसे हुए थे।

कोरोना वायरस संक्रमण से चीन को राहत मिली है और वह अपनी पुरानी जिन्दगी में लौटने का प्रयास कर रही है। जबकि स्पेन, इटली और फ्रांस के बाद अब सबसे ज्यादा वायरस का असर अमेरिका में देखा जा रहा है। अब तक अमेरिका में कोरोना वायरस के 4 लाख से अधिक मामले सामने आ चुके हैं। जबकि 12 हजार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

इसे भी देखें