देश में नहीं हो रहा है कोरोना का कम्युनिटी ट्रांसमिशन, लेकिन खतरा हर व्यक्ति पर : ICMR

नई दिल्ली। देश में तेजी से फैलती कोरोना महामारी को लेकर ICMR ने एक खुशखबरी दी है। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने दावा किया है देश में कम्युनिटी ट्रांसमिशन नहीं हुआ है। स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि देश का रिकवरी रेट 49.21% है। अब देश में रिकवर हो चुके लोगों की संख्या सक्रिय मामलों की संख्या से ज्यादा है। 11 जून तक हमारे देश में 1,41,028 लोग रिकवर हो चुके हैं।

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव ने प्रेस कान्फ्रेंस में कहा, “भारत कम्युनिटी ट्रांसमिशन में नहीं है। यह केवल एक शब्द है जिसका इस्तेमाल किया जाता है। इस शब्द के चारों ओर एक बहस है लेकिन डब्ल्यूएचओ ने भी इस शब्द को परिभाषित नहीं किया है।”

ICMR के बयान के अनुसार भारत में एक दिन में नए कॉरोनोवायरस मामलों में 9,996 नए मामले सामने आए। इसके अलावा 357 मरीजों की मृत्यु भी हुई। यह लगातार नौवां दिन है कि देश – महामारी से पांचवां सबसे प्रभावित – 9,000 कोविड -19 से अधिक मामले दर्ज किए गए।

उन्होंने कहा, ‘जहां तक बात हमारे देश की है तो 30 अप्रैल तक 83 जिलों में महज 0.73% आबादी ही कोरोना से संक्रमित हुई थी। शहरी क्षेत्रों में इससे थोड़ा ज्यादा और कंटेनमेंट जोनों में थोड़ा और ज्यादा केस होंगे। बावजूद इसके देश में कोरोना संक्रमण की रफ्तार बहुत कम है। इसलिए निश्चित तौर पर भारत में कम्यूनिटी ट्रांसमिशन नहीं हो रहा है।’

उन्होंने भारत की परीक्षण क्षमताओं में वृद्धि के बारे में भी बात की। “जनवरी में एक प्रयोगशाला से, अब हमारे पास 850 से अधिक प्रयोगशालाएँ हैं जो परीक्षण कर रही हैं। हम अब प्रति दिन 1.51 लाख परीक्षणों का परीक्षण कर रहे हैं और प्रति दिन 2 लाख परीक्षण करने की क्षमता है, ”भार्गव ने कहा कि कुछ दिन पहले तक, कोविड -19 का पता लगाने के लिए 50 लाख से अधिक परीक्षण किए गए थे।

हालांकि, कोरोना पर प्रेस ब्रीफिंग में उन्होंने बार-बार कहा कि देश की बड़ी आबादी पर कोविड-19 महामारी का खतरा है। प्रेस कॉन्फ्रेंस में मौजूद नीति आयोग के सदस्य और कोरोना पर गठित एंपावर्ड ग्रुप वन के चेयरमैन डॉ. वीके पॉल ने तो स्पष्ट शब्दों में कहा कि हम सब कोरोना संक्रमण पकड़ेगा। इसलिए हमें उच्च-जोखिम वाले समूहों की रक्षा करने, सामाजिक दूरी बनाए रखने की आवश्यकता है। आबादी का एक बड़ा प्रतिशत अभी भी अतिसंवेदनशील है। उन्होंने कहा कि राज्य सुरक्षा और नियंत्रण बनाए रखने की जरूरत नहीं है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

इसे भी देखें