ओमिक्रॉन को लेकर केंद्र ने राज्यों को जारी की एडवाइजरी, क्या फिर से लगेगा लॉकडाउन?

नई दिल्ली। भारत में कोरोना का ओमिक्रॉन वेरिएंट तेजी से अपने पांव पसार रहा है। अब तक भारत के 15 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में ओमिक्रॉन के 213 मामले सामने आ चुके हैं। ओमिक्रॉन के बढ़ते मामलों को देखते हुए स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने फरवरी तक तीसरी लहर आने की आशंका व्यक्त की है। कोरोना की संभावित तीसरी लहर को देखते हुए केंद्र सरकार ने तमाम राज्यों को इससे निपटने के लिए युद्ध स्तर पर तैयारी करने के लिए कहा है। केंद्र सरकार ने राज्यों से कहा कि यदि एक सप्ताह में 10 प्रतिशत से अधिक टेस्ट पॉजिटिव आते हैं या अस्पताल के 40 प्रतिशत से अधिक बेड घिर जाते हैं तो रात्रि कर्फ्यू और बड़े समारोहों पर प्रतिबंध लगाने जैसे कदमों पर विचार करें।

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने राज्यों को जो एड्वाइजरी जारी की है उसमें कहा गया है कि वैज्ञानिक तथ्यों के आधार पर ओमिक्रॉन वेरिएंट डेल्टा वेरिएंट से 3 गुना ज्यादा संक्रामक है। डेल्टा वेरिएंट अभी भी देश के कई हिस्सों में मौजूद है। इसलिए, स्थानीय और जिला स्तर पर और भी अधिक दूरदर्शिता, डेटा विश्लेषण, गतिशील निर्णय लेने और सख्त और त्वरित नियंत्रण कार्रवाई की आवश्यकता है।

एड्वाइजरी में आगे कहा गया है कि राज्य नियमित तौर पर कोरोना से संक्रमित हुए लोगों पर नजर बनाए रखें और संक्रमण को स्थानीय स्तर पर ही फैलने से रोकें। इसके अलावा अस्पताल के बुनियादी ढांचे को दुरुस्त रखें और मैन पॉवर को तैयार रखें।

इसके अलावा सरकार ने शादी समारोहों, दाह संस्कार, पब्लिक ट्रांसपोर्ट, उद्योगों और दफ्तरों में भीड़ भाड़ को नियंत्रित करने का भी निर्देश दिया है। इसके अलावा केंद्र ने सभी राज्यों को तीव्र गति से शत प्रतिशत कोरोना वायरस टीकाकरण करने का भी निर्देश दिया है। सरकार ने कहा कि जिन जिलों में पहली और दूसरी का कवरेज राष्ट्रीय औसत से कम है वहां तीव्र गति से टीकाकरण किया जाए, इसके अलावा हर घर दस्तक अभियान में भी तेजी लाई जाए।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

इसे भी देखें