केरल और जम्मू-कश्मीर में आए Corona के पॉजिटिव केस, भारत में मरीजों की संख्या बढाकर हुई 40

नई दिल्ली। भारत में कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे हैं। सोमवार को कोरोना के 2 मामले सामने आए हैं। इटली की यात्रा कर केरल लौटे 3 वर्षीय बच्चे का कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया है। बच्चे को एर्नाकुलम मेडिकल कॉलेज में आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है। वहीं जम्मू-कश्मीर के करगिल में ईरान से लौटे एक शख्स का कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया है। आपको बता दें कि रविवार को एक परिवार के पांच लोगों में कोरोना का टेस्ट पॉजिटीव पाया गया था। देश में अब कोरोना मरीजों की संख्या 41 हो गई है।

केरल में 5 और लोग कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं। इनमें से तीन लोग हाल ही में इटली से लौटे हैं। राज्य की स्वास्थ्य मंत्री KK शैलजा ने रविवार को यह जानकारी दी। ये मामले सामने आने के बाद राज्य में अतिरिक्त सतर्कता बरती जा रही है। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि करीब एक सप्ताह पहले इटली से लौटा दंपति और उनका बेटा हवाईअड्डे पर स्वास्थ्य जांच से बच निकला था जबकि संक्रमित मिले दो अन्य लोग उनके रिश्तेदार हैं। ये सभी लोग पथनामथिट्टा जिले के रहने वाले हैं। फिलहाल उनकी हालत स्थिर है। इससे पहले भी राज्य में तीन लोग वायरस से संक्रमित पाए गए थे। तीनों को इलाज के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी।

शैलजा ने कहा कि 50 वर्षीय दंपति ने अपने 24 वर्षीय बेटे के साथ 29 फरवरी को इटली से भारत के लिए उड़ान भरी थी। तीनों ने भारत में अधिकारियों को अपनी विदेश यात्रा की जानकारी नहीं दी थी। उनके दो रिश्तेदार जब वायरस के लक्षण दिखने के बाद अस्पताल गए तो स्वास्थ्य अधिकारियों को दंपति व उनके बेटे की विदेश यात्रा का पता चला।

कतर एयरवेज की कोच्चि की उड़ान के कुछ यात्रियों के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद विमानन कंपनी ने रविवार को कहा कि इस मामले में वह भारतीय स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ मिलकर काम कर रही है। केरल के पांच और लोग कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। इनमें से तीन ने हाल में इटली की यात्रा की थी। एक दंपत्ति और उनका बेटा सप्ताह भर पहले भारत लौटने पर हवाईअड्डे पर हुई जांच से बचकर निकल गए थे।

तीनों वेनिस से दोहा जाने वाले विमान में सवार थे और इसके बाद उन्होंने दूसरे विमान से दोहा से कोच्चि की यात्रा की थी। विमानन कंपनी ने एक बयान में कहा कि 29 फरवरी को दोहा से कोच्चि जाने वाली उड़ान में कोरोना के संग्दिध मरीज थे। हम भारतीय स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

इसे भी देखें