पंजाब में पुलिस पर हमला करने और ASI के हाथ काटने के मामले में 11 लोग को किया गिरफ्तार

चंडीगढ़। पंजाब के पटियाला जिले में पुलिस टीम पर हमला करने और सहायक उपनिरीक्षक के हाथ काटने के मामले में राज्य के एक गुरुद्वारे से पांच निहंग सिख समेत सात लोगों को रविवार को गिरफ्तार कर लिया गया।

अधिकारियों ने बताया कि सात में से पांच वे लोग हैं जो रविवार तड़के पटियाला की सब्जी मंडी के बाहर हुए हमले में शामिल थे। लॉकडाउन के कारण पुलिस ने मंडी के बाहर अवरोधक लगाए थे और लोगों से कर्फ्यू पास दिखाने के लिए कह रहे थे।

पुलिस ने बताया कि चार-पांच ‘निहंगों’ (कृपाण रखने वाले और नीली लंबी कमीज पहनने वाले सिख) का एक समूह एक वाहन में यात्रा कर रहा था और मंडी के अधिकारियों ने सुबह करीब सवा छह बजे सब्जी बाजार के पास उन्हें रुकने के लिये कहा। पटियाला के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मनदीप सिंह सिद्धू ने कहा, “उनसे (कर्फ्यू) पास दिखाने को कहा गया, लेकिन उन्होंने अपनी गाड़ी से दरवाजे और वहां लगाए गए अवरोधकों पर टक्कर मार दी।”

उन्होंने कहा कि इसके बाद इन लोगों ने ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों पर हमला कर दिया।उन्होंने कहा, “तलवार से एक सहायक उप निरीक्षक (ASI) का हाथ काट डाला गया। पटियाला सदर थाने के प्रभारी की कोहनी में चोट आई है जबकि एक अन्य पुलिस अधिकारी की बांह में भी इस हमले में चोट आई है।” एएसआई को राजेंद्र अस्पताल ले जाया गया जहां से उसे पीजीआईएमईआर चंडीगढ़ के लिये रेफर कर दिया गया।
पुलिस ने बताया कि हमलावर पास के बलबेरा गांव में फरार हो गए और उन्हें वहां के गुरुद्वारे से गिरफ्तार कर लिया गया। उन्होंने बताया कि सिद्धू के नेतृत्व में पुलिस की कई टीमों को परिसर से निहंगों को बाहर निकालने के लिए तैनात किया गया। साथ ही बताया कि गुरुद्वारा के आस-पास लोगों की आवाजाही रोक दी गई थी। पंजाब पुलिस के महानिदेशक दिनकर गुप्ता ने इस घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया।

उन्होंने ट्वीट में कहा, “आज सुबह हुई दुर्भाग्यपूर्ण घटना में, निहंगों के एक समूह ने पटियालाय के सब्जी मंडी में कुछ पुलिस अधिकारियों और मंडी बोर्ड के एक अधिकारी पर हमला कर दिया। एएसआई हरजीत सिंह जिनके हाथ काट दिए गए वह पीजीआई चंडीगढ़ पहुंच चुके हैं।” गुप्ता ने अन्य ट्वीट में कहा, “मैंने पीजीआई के निदेशक से बात की है जिन्होंने सर्जरी के लिए पीजीआई के शीर्ष प्लास्टिक सर्जनों को इस काम में लगाया है, सर्जरी शुरू हो चुकी है।” गुप्ता ने कहा, “पूर्ण सहयोग के लिए पीजीआई का आभार। पीजीआई निदेशक ने बताया कि दो वरिष्ठ सर्जनों ने सर्जरी शुरू कर दी है जो अपना सर्वश्रेष्ठ देंगे। हम सभी उनके पूर्ण स्वस्थ होने की वाहेगुरु से प्रार्थना कर रहे हैं।” यह वारदात तब हुई जब कोरोना वायरस के प्रकोप के मद्देनजर राज्य में पाबंदियां लागू हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

इसे भी देखें