पीएम मोदी ने संसद में किया ट्रस्ट के नाम का ऐलान, ‘‘श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र’’ होगा नाम, योजन तैयार अयोध्या में होगा भव्य राम मंदिर का निर्माण

नई दिल्ली(बीएनएस)। राम जन्म भूमि के पक्ष में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के 87 दिन बाद केद्र सरकार ने ‘‘श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र’’ नाम के एक ट्रस्ट की घोषणा की है। यह घोषणा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद संसद में की। PM मोदी ने कहा कि करोड़ों देशवासियों की तरह ही मेरे हृदय के करीब है श्री राम, इस विषय पर बात करना मैं अपना सौभाग्य समझता हूं। ये विषय श्रीराम जन्म भूमि से जुड़ा हुआ है। यह विषय है अयोध्या में भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर से जुड़ा हुआ है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में ‘‘श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र’’ के गठन का प्रस्ताव पारित किया गया, यह ट्रस्ट अयोध्या में भगवान राम मंदिर के निर्माण और उससे संबंधित विषयों पर निर्णय के लिए पूर्ण रूप से स्वतंत्र होगा। उन्होंने कहा कि 9 नवंबर, 2019 को मैं करतारपुर साहिब कॉरिडोर के उद्घाटन के लिए पंजाब में था। वो एक अद्भुत अनुभव था। मुझे राम जन्मभूमि मामले पर ऐतिहासिक निर्णय के बारे में पता चल गया था, जबकि मैं वहां था।

श्री मोदी ने कहा कि SC ने राम मंदिर के पक्ष में फैसला दिया था। इसने सुन्नी वक्फ बोर्ड को 5 एकड़ जमीन देने को भी कहा था। आज सुबह, एक बैठक में, SC के निर्णय के अनुरूप बड़े फैसले लिए गए हैं। हमने अयोध्या में यूपी सरकार को सुन्नी वक्फ बोर्ड के लिए 5 एकड़ जमीन देने का अनुरोध किया। यूपी सरकार ने इसकी मंजूरी दे दी है। सरकार ने राममंदिर के दर्शन के लिए जाने वाले तीर्थयात्रियों की संख्या को ध्यान में रखते हुए एक और बड़ा फैसला किया है। मेरी सरकार ने फैसला किया है कि अधिकृत भूमि, जो लगभग 67.703 एकड़ है और अंदर और बाहर का आंगन है, को राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र में स्थानांतरित किया जाएगा।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

इसे भी देखें