निजामुद्दीन मरकज : PM मोदी पर अपमानजनक टिप्पणी करना पड़ा महंगा, सरकारी स्कूल का प्रिंसिपल गिरफ्तार

वड़ोदरा। गुजरात के वड़ोदरा जिले में एक सरकारी स्कूल के प्रधानाचार्य को कोरोना वायरस और निजामुद्दीन मरकज के संदर्भ में PM नरेंद्र मोदी और मीडिया पर अपमानजनक टिप्पणी करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। पाड्रा थाने के पुलिस निरीक्षक एस ए करमुर ने शिकायत के आधार पर बताया कि आरोपी नूर मोहम्मद मलेक (50) ने सोशल मीडिया पर इन पंक्तियों के साथ एक तस्वीर साझा की थी कि ‘निजामुद्दीन मरकज में लोग छिपे हैं, लेकिन वैष्णो देवी में फंसे हैं।’

पुलिस अधिकारी ने बताया कि आरोपी ने यह भी लिखा था कि मीडिया कोरोना वायरस से ज्यादा खतरनाक है। मलेक ने शिक्षकों और प्रधानाचार्यों के एक व्हाट्सएप ग्रुप में एक वीडियो भी साझा किया था। मलेक पाड्रा शहर के पास सेजाकुवा गांव स्थित प्राथमिक विद्यालय का प्रधानाचार्य है।

पुलिस ने बताया कि आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है और उसके खिलाफ धर्म के आधार पर समूहों में दुश्मनी पैदा करने, दुश्मनी बढ़ाने संबंधी बयान देने और नफरत बढ़ाने के आरोप में IPC तथा आपदा प्रबंधन कानून के तहत मामला दर्ज किया गया है।

पुलिस अधिकारी ने बताया कि आरोपी अपने द्वारा साझा किए गए वीडयो में PM मोदी के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करते भी सुनाई देता है। उन्होंने बताया कि व्हाट्सएप ग्रुप में शामिल एक शिक्षक ने पुलिस को इस बारे में शिकायत दी। ज्ञात हो कि बीते दिनों मरकज में तबलीगी जमात के लोगों में कोरोना वायरस की पुष्टि होने के बाद हड़कंप मच गया है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

इसे भी देखें